ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है? यहा जाने हिन्दी मे

ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है?

हेलो दोस्तों आज की इस ब्लॉक पोस्ट में हम आपको बताएंगे ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है? आज की डिजिटल दुनिया में इंटरनेट का तेजी से बढ़ते विकास से पूरी दुनिया एक नए युग में आ गई है इस डिजिटल दुनिया में इंटरनेट के साथ-साथ एक ऐसी टेक्नोलॉजी का भी विकास हुआ है जो आज की इस डिजिटल दुनिया में तेजी से विकास कर रही है और यह टेक्नोलॉजी ब्लॉकचेन है 

आज के इस पोस्ट में हम आपको ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है? यह हम आपको बताने वाले हैं पूरी दुनिया में सभी देशों ने ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी को अपनाया और ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी के माध्यम से अपने देश का बहुत ज्यादा विकास किया कुछ देशों ने तो अपने हर काम के लिए ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी से जुड़ गए हैं और ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी का फायदा उठा रहे हैं और पूरी तरीके से डिजिटल हो गए हैं और आज के नए जमाने में ब्लाकचैन के इतनी तेजी से विकास से लोग भी यह जानना चाहते हैं कि आखिर यह  ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी क्या है और कैसे काम करती है बहुत से लोग ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी के बारे में जानना चाहते हैं कि ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी क्या है और कैसे काम करती है और इस टेक्नोलॉजी का फायदा हम किस तरीके से उठा सकते हैं तो आज के इस ब्लॉक पोस्ट में आप हमारे साथ बने रहिए

हम आपको ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है? इसके बारे में विस्तार से जानकारी देने वाले हैं तो चलिए बिना समय को गवाई हुई हम आपको बताते हैं ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है 

ब्लॉकचेन क्या है

ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी एक ऐसी टेक्नोलॉजी है जो की पूरी तरीके से स्वतंत्र है ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी का कंट्रोल किसी एक व्यक्ति के हाथ में नहीं रहता है बल्कि यह लाखों कंप्यूटरों के साथ जुड़ी होती है ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी सुरक्षा की दृष्टि से भी बहुत ही ज्यादा भरोसेमंद टेक्नोलॉजी है क्योंकि ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी में जो भी काम होता है या जो भी ट्रांजैक्शन होता है पैसे का लेनदेन होता है वह पूरी तरीके से अलग-अलग ब्लॉक के रूप में डाटा को सेव कर कर रखते हैं जिसकी वजह से डाटा में किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया जा सकता है 

ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी में एक बार किसी ट्रांजैक्शन का डाटा Save होने पर उसे फिर से बदला नहीं जा सकता है या उसमें किसी भी तरह का बदलाव नहीं किया जा सकता अगर कोई ऐसा करने की कोशिश भी करता है तो उसकी कोशिश बिल्कुल बेकार हो जाएगी क्योंकि ब्लॉकचेन पर जब भी कोई ट्रांजैक्शन होता है तो उस ट्रांजैक्शन का Data कॉर्ड ओर Hash कोड बनता है जो की ब्लॉकचेन के अलग-अलग ब्लॉक में Seva होता है अगर कोई व्यक्ति ब्लॉकचेन के किसी भी ट्रांजैक्शन डाटा में बदलाव करने की कोशिश करता है तो उसे ब्लॉकचेन पर बनने वाले हर ब्लाक के डाटा कोड और Hash कोड को बदलना होगा जो की एक असंभव काम है क्योंकि ब्लॉकचेन के ब्लॉक में जिस भी ट्रांजैक्शन के डाटा कोड और Hash कोड सेव होता है वह लाखों करोड़ों कंप्यूटर से जुड़ा होता है जिसे बदलना नामुमकिन है इसीलिए ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी पूरी तरीके से सुरक्षित और फास्ट भी मानी जाती है 

ब्लॉकचेन में किसी भी डाटा को देने के बाद उसे कभी भी मिटाया नहीं जा सकता है ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी को कभी भी बंद नहीं किया जा सकता है ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी में जो भी डाटा एक बार बनता है वह हमेशा के लिए Save रहता है ब्लॉकचेन पर किए गए किसी भी ट्रांजैक्शन कि आप पुरानी से पुरानी हिस्ट्री भी जान सकते हैं क्योंकि ब्लॉकचेन में होने वाले ट्रांजैक्शन के हर ट्रांजैक्शन का एक अलग-अलग ब्लॉक बनता है जिसमें उस ट्रांजैक्शन का Data Save होता है जिससे आप उस ट्रांजैक्शन की पूरी हिस्ट्री के बारे में जान सकते हैं 

 ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी कैसे काम करती है 

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी पूरी तरह डिजिटल फॉर्म में काम करती है ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी लाखो कंप्यूटरों के साथ काम करती है इसके अंदर डाटा को सेव करने के लिए लाखों कंप्यूटरों में अलग-अलग ब्लॉक में डाटा को सेव किया जाता है ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी किसी भी ट्रांजैक्शन को पूरा करने के लिए सबसे पहले अपने अस्तित्व को बचाने के लिए और ट्रांजैक्शन के डाटा के लिए ब्लॉक बनाने के लिए स्मार्ट कांट्रैक्ट से जुड़कर अलग-अलग ब्लॉक में ट्रांजैक्शन के डाटा को सेव करती है ब्लॉकचेन किसी भी ट्रांजैक्शन को करने से पहले उसके लिए एक माइनर सी फीस लेती है जिसे हम गैस फिश भी कहते हैं इस गैस फीस से ब्लॉकचैन अपने अस्तित्व को बनाए रखती है लाखों करोड़ों कंप्यूटर से जुड़े रहने पर ब्लॉकचेन को बचाने के लिए और डाटा को सेव रखने के लिए सबसे पहले ब्लॉकचेन माइनर सी गैस फीस को लेकर ही ट्रांजैक्शन को पूरा करती है ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से ट्रांजैक्शन कितना भी बड़ा हो ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी इसे बहुत ही फास्ट करती है यहां तक की इस ट्रांजैक्शन की दूरी कितनी भी हो ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी इसे कुछ ही सैकड़ो में पूरा कर सकती है 

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का लाभ

  • ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी सुरक्षा की दृष्टि से बहुत अच्छी है इसमें धोखाधड़ी होने की संभावना बहुत कम होती है
  • ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी की मदद से बड़े से बड़े ट्रांजैक्शन को कुछ ही सैकड़ो में किया जा सकता है जिस समय की बचत और पैसे की बचत भी होती है
  • ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी की मदद से आज की डिजिटल दुनिया में गवर्नमेंट सेक्टर में भी अपने जरूरी दस्तावेजों की जानकारी को सुरक्षित रखने के लिए भी ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का उपयोग किया जा सकता है
  • ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी से एजुकेशन सेक्टर में भी होने वाले फर्जी डिग्रियों के कामों पर रोक लगा सकती है और ब्लॉकचेन से एजुकेशन सेक्टर की पूरी इनफार्मेशन को ब्लॉकचेन में सुरक्षित किया जा सकता है और धोखाधड़ी से बचा जा सकता है

ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का नुकसान 

  • ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी का सबसे बड़ा नुकसान यह है कि अगर आपने कभी ब्लॉकचेन पर कोई भी गलत डाटा अपलोड कर दिया तो वह ब्लॉकचेन पर हमेशा के लिए से हो जाएगा
  • अगर आपने कभी भी ब्लॉकचेन पर कोई गलत ट्रांजैक्शन कर दिया तो आप उसे ठीक नहीं कर सकते हैं या अपने ट्रांजैक्शन किए हुए फंड को वापस नहीं ले सकते हैं
  • ब्लाकचैन टेक्नोलॉजी पर एक बार कोई भी इनफॉरमेशन अपलोड करने के बाद आप उसमें किसी भी तरह का बदलाव नहीं कर सकते हैं
  • ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी से गैर कानूनी कामों में ट्रांजैक्शन का उपयोग किया जा सकता है जिसकी वजह से ब्लैक मनी का चलन बढ़ सकता है
 
निष्कर्ष
दोस्तों आज के इस ब्लॉक पोस्ट में हमने जाना ब्लॉकचेन क्या है और कैसे काम करती है ब्लॉकचेन के बारे में इस ब्लॉक पोस्ट में मैंने आपको समझाने की कोशिश की है की ब्लॉकचेन क्या है और ब्लॉकचेन किस तरीके से काम करती है और इस ब्लॉक पोस्ट में ब्लॉकचेन के क्या लाभ हैं और क्या हानि है यह भी हमने आपको इस ब्लॉक पोस्ट में बताने की कोशिश की है अगर आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो आप हमें फॉलो कर सकते हैं जिससे आपको आने वाले समय में इसी तरह की पोस्ट की अपडेट समय-समय पर मिलती रहेंगे और हमारे इस ब्लॉक पोस्ट को अपने उन दोस्तों के साथ भी जरूर शेयर करें जो ब्लॉकचेन से संबंधित जानकारी लेना चाहते हैं और ब्लॉकचेन के बारे में जानना चाहते हैं

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top